सलमान खान के घर गोलीबारी मामले में एक आरोपी ने सरकारी गवाह बनने की इच्छा जताई

0
15

बॉलीवुड सुपरस्टार सलमान खान के घर पर गोलीबारी के मामले में कई बड़े राज से पर्दा उठ सकता है. इस घटना में शामिल एक आरोपी ने सरकारी गवाह बनने की इच्छा जताई है. बता दें कि मुंबई की एक विशेष अदालत ने बांद्रा में अभिनेता सलमान खान के घर के बाहर हुई गोलीबारी की घटना के संबंध में गिरफ्तार तीन आरोपियों को सोमवार को आठ मई तक पुलिस हिरासत में भेज दिया है. महाराष्ट्र संगठित अपराध नियंत्रण अधिनियम (मकोका) अदालत के विशेष न्यायाधीश ए एम पाटिल ने आरोपी विक्की गुप्ता (24), सागर पाल (21) और अनुज थापन (32) को पुलिस हिरासत में और सोनू कुमार चंदर बिश्नोई (37) को चिकित्सा आधार पर न्यायिक हिरासत में भेज दिया.

इसके बाद मकोका के आरोपों का सामना कर रहे एक व्यक्ति ने मामले में सरकारी गवाह बनने की इच्छा व्यक्त की है. मुंबई अपराध शाखा के सूत्रों ने मंगलवार को यह जानकारी दी. आरोपियों की पहचान का खुलासा किए बिना सूत्रों ने कहा कि 14 अप्रैल की गोलीबारी मामले में गिरफ्तार किए गए और मकोका के तहत आरोपों का सामना कर रहे लोगों में से एक ने सरकारी गवाह बनने की इच्छा व्यक्त की है और इसके तहत आवश्यक कानूनी प्रक्रिया के तहत कार्रवाई शुरू की गई है.

उन्होंने बताया कि प्रक्रिया के अनुसार जांच एजेंसी पहले किसी उच्च रैंकिंग अधिकारी के सामने आरोपी का कबूलनामा दर्ज करेगी. यह अधिकारी चल रही जांच का हिस्सा नहीं है. बाद में इसे मजिस्ट्रेट के सामने दर्ज किया जाएगा. उन्होंने कहा, “इकबालिया बयान सबूत का हिस्सा होगा और इसका इस्तेमाल उसके साथ-साथ आरोपों का सामना कर रहे अन्य आरोपियों के खिलाफ भी किया जाएगा.”

सोमवार को मामले में गिरफ्तार तीन आरोपियों को आठ मई तक पुलिस हिरासत में भेज दिया गया, जबकि चौथे को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया. विशेष मकोका न्यायाधीश एएम पाटिल ने 24 वर्षीय विक्की गुप्ता, 21 वर्षीय सागर पाल और 32 वर्षीय अनुज थापन को पुलिस हिरासत में भेज दिया और 37 वर्षीय सोनू कुमार चंदर बिश्नोई को चिकित्सा आधार पर न्यायिक हिरासत में भेज दिया.

आरोपियों पर पहले भारतीय दंड संहिता और शस्त्र अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया था. पुलिस ने 14 अप्रैल की सुबह बांद्रा के गैलेक्सी अपार्टमेंट में दो मोटरसाइकिल सवार लोगों द्वारा गोलीबारी के बाद पहली सूचना रिपोर्ट दर्ज की थी. बिहार निवासी गुप्ता और पाल को 16 अप्रैल को पड़ोसी राज्य गुजरात के कच्छ से पकड़ा गया था जबकि सोनू बिश्नोई तथा थापन को 25 अप्रैल को पंजाब से पकड़ा गया था.

अनमोल बिश्नोई, जो कनाडा में रहता है और अमेरिका की यात्रा करता रहता है, ने एक फेसबुक पोस्ट के माध्यम से गोलीबारी की जिम्मेदारी ली थी, हालांकि पुलिस के अनुसार इसका आईपी पता पुर्तगाल का पाया गया था. आरोपी कथित तौर पर जेल में बंद गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई से संबंधित हैं जो वर्तमान में तिहाड़ जेल में बंद है.