कांग्रेस फैला रही फर्जी वीडियो : अमित शाह

0
28

 

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सोशल मीडिया पर प्रसारित अपने एडिटेड वीडियो को लेकर मंगलवार को कांग्रेस पर तीखा हमला बोला. उन्होंने आरोप लगाया कि मेरे फर्जी वीडियो के पीछे कांग्रेस है.

गुवाहाटी में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि आज कांग्रेस के एक प्रमुख नेता पर आपराधिक मामला चल रहा है. यह कार्रवाई उनकी हताशा और निराशा का संकेत है. इस मामले को लेकर उन्होंने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी पर भी निशाना साधा. उन्होंने कहा कि फर्जी वीडियो जारी कर जनता का समर्थन हासिल करने का प्रयास करना बेहद निंदनीय है. किसी भी बड़ी पार्टी को ऐसा काम नहीं करना चाहिए.

12 और लोगों को नोटिस गृह मंत्री अमित शाह के फर्जी वीडियो मामले में दिल्ली पुलिस की इंटेलिजेंस फ्यूजन एंड स्ट्रैटेजिक ऑपरेशंस (आईएफएसओ) यूनिट ने 12 और लोगों को नोटिस भेजा है. इससे पहले तेलंगाना के मुख्यमंत्री रेवंत रेड्डी समेत छह लोगों को जांच में शामिल होने के लिए नोटिस भेजा गया था. अब तक 18 लोगों को आईएफएसओ नोटिस भेज चुकी है. मामले की जांच करने और आरोपियों को पकड़ने के लिए आईएफएसओ यूनिट ने कई अलग-अलग टीम बनाई है.

महाराष्ट्र युवा कांग्रेस के सोशल मीडिया हैंडल पर मुकदमा मुंबई पुलिस ने गृहमंत्री शाह का फर्जी वीडियो कथित तौर पर साझा करने के लिए महाराष्ट्र युवा कांग्रेस के सोशल मीडिया हैंडल और 16 अन्य लोगों पर केस दर्ज किया है. इस संबंध में भाजपा की मुंबई इकाई के पदाधिकारी प्रतीक करपे ने सोमवार को बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स साइबर थाने में शिकायत दी थी. शाह का डीपफेक वीडियो बनाया गया और इंटरनेट पर व्यापक रूप से साझा किया गया. जिसके पीछे आरोपियों का मकसद केंद्रीय मंत्री को बदनाम करना था.

गुजरात से दो गिरफ्तार

अहमदाबाद. गुजरात पुलिस ने अमित शाह का फर्जी वीडियो साझा करने के आरोप में कांग्रेस के एक नेता और आम आदमी पार्टी (आप) के एक पदाधिकारी को गिरफ्तार किया. इनकी पहचान बनासकांठा के पालनपुर निवासी सतीश वंसोला और दाहोद जिले के लिमखेड़ा शहर से राकेश बारिया के रूप में हुई है.

पुलिस को ब्योरा मिला

दिल्ली पुलिस ने वीडियो साझा करने वालों का जो ब्योरा सोशल मीडिया के विभिन्न मंचों से मांगा था, उसमें से कुछ का ब्योरा पुलिस को खुद की जांच में मिला है. कुछ के बारे में जानकारी नहीं होने के कारण विस्तृत ब्योरा मांगा गया है. पुलिस यह पता लगा रही है कि सबसे पहले किसने यह वीडियो साझा किया था.