गजल गायक पंकज उधास चारण का निधन

0
11

गजल गायक पंकज उधास चारण का निधन, 72 साल की उम्र में उनका निधन हो गया है. इस खबर की पुष्टि उनकी बेटी नायाब ने की है. नायाब ने सोशल मीडिया पर पोस्ट शेयर कर बताया कि वह लंबे समय से बीमार थे.

पंकज उधास पिछले कुछ समय से मुंबई के ब्रीच क्रैंडी अस्पताल में भर्ती थे. इसी अस्पताल में उन्होंने आज सुबह 11 बजे आखिरी सांस ली.

पंकज उधास का जन्म 17 मई 1951 को हुआ था. भारतीय संगीत उद्योग में उनको तलत अजीज और जगजीत सिंह जैसे अन्य संगीतकारों के साथ इस शैली को लोकप्रिय संगीत के दायरे में लाने का श्रेय दिया जाता है. उधास को फिल्म नाम में गायकी से प्रसिद्धि मिली, जिसमें उनका एक गीत चिठ्ठी आई है काफी लोकप्रिय हुआ था. उसके बाद से उन्होंने कई फिल्मों के लिए एक पार्श्व गायक के रूप में अपनी आवाज दी है. इसके अतिरिक्त उन्होंने कई एल्बम भी रिकॉर्ड किए हैं और एक कुशल गजल गायक के रूप में पूरी दुनिया में अपनी कला का प्रदर्शन करते हैं. 2006 में पंकज उधास को पद्मश्री से सम्मानित किया गया था .

पंकज उधास  के बड़े भाई मनहर रंगमंच के एक अभिनेता थे, जिसकी वजह से पंकज संगीत के संपर्क में आए. रंगमंच पर उनका पहला प्रदर्शन भारत-चीन युद्ध के दौरान हुआ, जिसमें उन्होंने “ऐ मेरे वतन के लोगों” गाया जिसके लिए एक दर्शक द्वारा उनको पुरस्कार स्वरूप 51 रुपये का इनाम भी दिया गया. चार साल बाद वे राजकोट की संगीत नाट्य अकादमी में भर्ती हो गए और तबला बजाने की बारीकियों को सीखा. उसके बाद, उन्होंने सेंट जेवियर्स कॉलेज से विज्ञान स्नातक डिग्री की पढ़ाई की और एक ‘बार’ में काम शुरू कर दिया, तथा समय निकालकर गायन का अभ्यास करते रहे.