राहुल गांधी ने कल्पना सोरेन से की मुलाकात

0
8

झारखंड में चंपई सोरेन की सरकार फ्लोर टेस्ट में पास हो गई है. इस बीच कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने हेमंत सोरेन की पत्नी कल्पना सोरेन से मुलाकात की. ये मुलाकात हेमंत सोरेन के आवास पर हुई है. राज्य की महागठबंधन की सरकार का कांग्रेस भी हिस्सा है. कांग्रेस ने एक्स पर इस मुलाकात की तस्वीर शेयर करते हुए कहा कि हम सभी एकजुट होकर न्याय की लड़ाई जारी रखेंगे, जनता की आवाज बुलंद करेंगे. नफरत हारेगी और इंडिया जीतेगा.

फ्लोर टेस्ट में सफलता के बाद कांग्रेस ने कहा, “झारखंड ने तानाशाह के घमंड को तोड़ दिया. इंडिया की जीत हुई, जनता की जीत हुई. इंडिया गठबंधन की सरकार ने आज विधानसभा में विश्वासमत पास कर लिया है. आप सबको बहुत बधाई. जय जोहार.”

वहीं जेएमएम सांसद महुआ माझी ने कहा, “”यह लोकतंत्र की जीत है. जिस तरह से सभी विधायक एकजुट रहे, यह हेमंत सोरेन की सुझबूझ से ही संभव हुआ है. कांग्रेस, राजद और सभी ने जिस तरह से मिलकर रणनीति बनाई असंभव को संभव कर दिखाया.”

राज्यपाल के अभिभाषण के बाद हुई वोटिंग में सरकार के पक्ष में 47 वोट पड़े. यह संख्या विधानसभा के मौजूदा स्ट्रेंथ और सदन में उपस्थित विधायकों की संख्या के हिसाब से बहुमत के लिए जरूरी नंबर से सात ज्यादा है. वोटिंग के पहले राज्यपाल के लगभग 35 मिनट के अभिभाषण के दौरान कांग्रेस और जेएमएम के विधायकों ने हेमंत सोरेन के समर्थन में लगातार नारेबाजी की.

कांग्रेस के विधायक प्रदीप यादव ने अभिभाषण शुरू होने के पहले आरोप लगाया कि झारखंड में जनता की चुनी सरकार को केंद्र सरकार के इशारे पर अपदस्थ किया गया है. पूर्व सीएम और बरहेट विधानसभा क्षेत्र के विधायक हेमंत सोरेन भी वोटिंग के दौरान सदन में मौजूद रहे. स्पीकर ने उनके लिए सत्ता पक्ष के निर्धारित स्थान में अगली कतार में सीट अलॉट की थी. अदालत ने उन्हें एक घंटे के लिए सदन में उपस्थित होने की इजाजत दी थी. अदालत ने उन्हें आदेश दिया था कि वे मीडिया से कोई बातचीत नहीं करेंगे. फ्लोर टेस्ट के दौरान जेएमएम के रामदास सोरेन गंभीर रूप से बीमार रहने की वजह से सदन में उपस्थित नहीं हो पाए.

सत्तारूढ़ गठबंधन के जिन तीन विधायकों सीता सोरेन, लोबिन हेंब्रम और चमरा लिंडा को नाराज बताया जा रहा था, उन्होंने भी सरकार के पक्ष में वोट किया. सत्तारूढ़ गठबंधन ने विधायकों को एकजुट रखने के लिए तीन दिनों तक हैदराबाद के रिजॉर्ट में रखा था. सभी विधायक रविवार शाम हैदराबाद से वापस रांची आए थे. सोमवार को सभी विधायक एक साथ सदन में पहुंचे थे. विश्वास मत पर वोटिंग के साथ ही सदन की कार्यवाही मंगलवार तक के लिए स्थगित कर दी गई. मंगलवार को सदन के दो दिवसीय विशेष सत्र का आखिरी दिन है.