बकाये की मांग को लेकर धरने पर बैठीं ममता

0
8

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शुक्रवार को दोहराया कि उनकी पार्टी पश्चिम बंगाल में आगामी लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस के साथ गठबंधन करने की इच्छुक थी, लेकिन उसने उनके प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया. तब से, हमारे बीच कोई बातचीत नहीं हुई है.

ममता ने कहा, हम गठबंधन के लिए तैयार थे, उन्हें दो सीट की पेशकश की थी जिसे उन्होंने अस्वीकार कर दिया. अब उन्हें सभी 42 सीट पर अकेले चुनाव लड़ने दें.

वाम के लिए जवाबदेह क्यों मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने 2011 में सत्ता संभालने के बाद से केंद्रीय निधियों के व्यय के लिए उपयोगिता प्रमाण पत्र प्रदान किए हैं. हमें अपने कार्यकाल से पहले, खासकर वाम शासन के दौरान किए गए कार्यों के लिए जवाबदेह क्यों ठहराया जाना चाहिए?

जनता जवाब देगी ममता ने सोशल मीडिया मंच एक्स पर एक पोस्ट में झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के नेता हेमंत सोरेन की गिरफ्तारी की निंदा करते हुए कहा कि राज्य के लोग इसका करारा जवाब देंगे.

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्र से विभिन्न सामाजिक कल्याण योजनाओं के लिए राज्य के बकाए के भुगतान की मांग को लेकर शुक्रवार को धरना प्रदर्शन शुरू किया. इस दौरान उन्होंने कांग्रेस पर भी करारा हमला किया और उसे हिंदी भाषी राज्यों में भाजपा से मुकाबला करने की चुनौती दी. दावा किया कि केंद्र की भाजपा नीत सरकार के पास विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं के लिए राज्य का हजारों करोड़ रुपये बकाया है. उन्होंने कैग रिपोर्ट को गलत तथ्यों से पूर्ण बताया.