नगर निगम कमिश्नर अबिनाश मिश्रा ने ली एनजीओ की बैठक 

0
8

रायपुर. नगर निगम कमिश्नर व स्मार्ट सिटी के प्रबंध संचालक अबिनाश मिश्रा ने आज शहर में अपनी सेवा देने वाले स्वयंसेवी संगठनों के पदाधिकारियों से विचार-विमर्श कर शहर विकास में उनके सुझाव लिए. इस बैठक में 70 से भी अधिक एनजीओ ने हिस्सा लिया एवं जिला प्रशासन, नगर निगम व रायपुर स्मार्ट सिटी की गतिविधियों में अपनी सहभागिता का संकल्प दोहराया. कमिश्नर श्री मिश्रा ने कहा है कि सक्रिय संगठनों की मैपिंग जोनवार की जाएगी एवं स्वच्छता गतिविधियों के साथ ही हर विकास कार्यक्रमों में इनकी भागीदारी सुनिश्चित की जाएगी. बैठक में नगर निगम, स्वच्छ भारत मिशन, रायपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड, हाउसिंग, शहरी आजीविका मिशन के अधिकारी साथ थे.

बैठक में सभी एनजीओ ने नागरिक सेवाओं की दिशा में उनके द्वारा संचालित कार्यक्रमों व गतिविधियों की जानकारी दी. स्वच्छता, पर्यावरण, सघन वृक्षारोपण, स्वास्थ्य, शिक्षा, समाज कल्याण, रोजगार, वरिष्ठ नागरिकों, युवाओं, बच्चों व महिलाओं के अलावा पशु-पक्षियों की बेहतरी के लिए ये एनजीओ निरंतर सक्रिय रहते है. कमिश्नर श्री मिश्रा ने इनके प्रयासों को सराहा एवं विश्वास दिलाया कि प्रशासन के महत्वपूर्ण अंग के रूप में एनजीओ को हर संभव सहयोग दिया जाएगा. उन्होंने आवासीय परिसरों की त्रैमासिक स्वच्छता रैंकिंग पहली बार रायपुर में किए जाने की जानकारी देते हुए बताया कि 06 फरवरी तक नामांकन होंगे एवं 07 से 14 फरवरी तक प्रशासन का अंकेक्षण दल उपलब्ध सुविधाओं का जायजा लेने नामांकित कॉलोनियों की जांच करेगा. इस आधार पर 15 फरवरी को क्लीन-ग्रीन अवार्ड व कॉलोनियों की स्वच्छता रैंकिंग जारी की जाएगी. उन्होंने बताया कि बिल्डर या रेसिडेंशियल वेलफेयर सोसायटी अपना नामांकन 01 फरवरी को जारी हो रही गूगल लिंक पर विस्तृत जानकारी दे सकेंगे. उन्होंने संगठनों से कहा है कि हर कॉलोनी नामांकित हो, इसके लिए एनजीओ अपने स्तर पर भी इन कॉलोनियों को जागरूक कर स्वच्छता के महा-अभियान को अपना साथ दें. बैठक में प्रशिक्षु आईपीएस अधिकारी श्री विमल कुमार पाठक सहित स्वच्छ भारत मिशन के नोडल अधिकारी रघुमणि प्रधान, रायपुर स्मार्ट सिटी के महाप्रबंधक (जनसंपर्क) आशीष मिश्रा, सहायक अभियंता योगेश कडू, एनयूएलएम की सिटी मिशन मैनेजर सुषमा मिश्रा भी शामिल रहें.

कमिश्नर श्री मिश्रा ने कहा है कि जोनवार उस क्षेत्र के एनजीओ की मैपिंग की जाएगी, इससे अपने क्षेत्र के किसी समस्या के निराकरण के लिए एवं जन जागरूकता कार्यक्रमों में इनकी भागीदारी सीधे तौर पर रहेगी. उन्होंने आगे कहा है कि घायलों, पीड़ितों व जरूरतमंदों को हर संभव व त्वरित सहायता के लिए नागरिकों व प्रशासन के मध्य सेतु का कार्य करें और अपनी उपस्थिति से सहायता के पुनीत कार्य में आगे बढ़कर भागीदारी दें. ऐसे एनजीओ व नागरिक जो विषम परिस्थिति में सहायता के लिए आगे आएंगे, उन्हें सम्मानित किया जाएगा. शहरी पथ विक्रेताओं की सुविधा हेतु बनी शहर विक्रय समितियों में भी एनजीओ शामिल किए जाएंगे. इन संगठनों के माध्यम से आम नागरिकों तक सूचना एवं सुविधाओं को त्वरित गति से पहुंचाने हेतु भी एनजीओ की भूमिका को अधिक सशक्त बनाया जाएगा. इस संबंध में कमिश्नर श्री मिश्रा ने सभी जोन कमिश्नर को भी निर्देशित किया है एवं रोजगार, शिक्षा व अन्य गतिविधियों में इन एनजीओ के फीडबैक लेकर मैदानी गतिविधियों का आकलन किया जाएगा.

सभी एनजीओ ने जिला प्रशासन, नगर निगम व स्मार्ट सिटी के साथ कोरोना काल में संचालित गतिविधियों तथा स्वच्छता में बेहतर प्रदर्शन के लिए इससे जुड़े सभी सदस्यों की सराहना की एवं विश्वास दिलाया कि प्रशासन के साथ मिलकर अपने सामूहिक प्रयासों से नगर विकास में अपना सतत योगदान देंगे.