DESH-विदेश

रायपुर: बार क्षेत्र में 18 गांव में सोलर प्लांट के जरिए मिल रही है बिजली

क्रेडा के सीईओ ने भ्रमण कर ग्रामीणों से सोलर प्लांट से मिलने वाले लाभ की जानकारी ली

रायपुर: छत्तीसगढ़ के वनग्रामों में सोलर एनर्जी से न केवल बिजली पहुंचायी जा रही है। बल्कि वनग्रामों में रहने वाले किसानों की जीवन को बेहतर बनाने उन्हें सोलर पंप के जरिए सिंचाई सुविधा भी उपलब्ध कराई जा रही है। छत्तीसगढ़ राज्य अक्षय ऊर्जा विकास निगम द्वारा बार अभ्यारण सेंचुरी के 18 वनग्रामों में 06 किलोवॉट का सोलर पॉवर प्लांट लगाकर इन गांवो में रात के समय जहां विद्युत आपूर्ति की जा रही है। इसके अलावा किसानों को सिंचाई और पेयजल के लिए अब आसानी से पानी उपलब्ध हो रहा है।

क्रेडा के सीईओ राजेश सिंह राणा बार अभ्यारण क्षेत्र का के गांवों में क्रेडा द्वारा किए जा रहे कार्यों का आकस्मिक निरीक्षण किया और सोलर प्लांट से मिलने वाले लाभ के बारे में ग्रामीणों से चर्चा की। ग्राम रवान में श्रीमती सुमित्रा बताया कि उनके यहां स्थापित सोलर पंप से उन्हें भरपूर सिंचाई सुविधा मिल रही है। पंप लगने के बाद साल में दो बार फसल ले रहे है। इससे उनकी आमदनी में काफी इजाफा हुआ है। उन्होंने ग्राम रवान के घरों में जाकर सोलर संयंत्र से घरों में चल रहे उपकरणों को भी देखा।

राणा ने जल जीवन मिशन अंतर्गत स्थापित हो रहे सोलर पंपों का भी निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने बार क्षेत्र में निर्माणाधीन सभी कार्यो को समयसीमा में गुणवत्ता के साथ पूर्ण करने के निर्देश क्रेडा के अधिकारियों को दिए। उन्होंने ग्राम बार में किसानों के यहां बनाए गए बायोगैस संयंत्रों का निरीक्षण किया गया। गृहणी श्रीमती मीना यादव ने बताया कि जब से बायोगैस संयंत्र उनके घर में लगा है तब से उन्हें धुंए से आजादी मिल गई है और स्वच्छ वातावरण में खाना पकाने से उन्हें सुविधा मिल रही है।

निरीक्षण के दौरान कुछ किसानों द्वारा यह बताए जाने पर कि सोलर पंप कंपनी द्वारा समय पर सर्विस नहीे दी जा रही है। राणा ने क्रेडा के अधिकारियों से कहा कि सोलर संयंत्र या सोलर पंप में खराबी का सुधार कार्य नहीं करने वाली कंपनियों की सुरक्षा निधि से राशि कटौती कर उन संयंत्रों को तत्काल दुरूस्त किये जाए। इसी प्रकार खराब सोलर हाई मास्ट संयंत्र के 03 लाईट को तत्काल सुधार कराने के निर्देश दिए।

Related Articles

Back to top button