MP-छत्तीसगढ़

गुजरात सरकार के पर्यटन विभाग ने रायपुर में गुजराती फूड फेस्टिवल का आयोजन किया

रायपुर. गुजरात सरकार के पर्यटन विभाग द्वारा मैरिगोल्ड मोती महल बैंकवेट होल में गुजराती फ़ूड फेस्टिवल का आयोजन किया गया. जिसमें गुजरात के विभिन्न क्षेत्रों के व्यंजनों को परोसा गया.

शाम 7 बजे भव्य फ़ूड फेस्टिवल की शुरुआत हुई. पूरा बैंक्वेट हॉल गुजराती व्यंजन संस्कृति से सजाया गया था. रायपुर शहर के विभिन्न विस्तारों से पधारे अतिथियों का गुजराती परंपरा से स्वागत किया गया.  पर्यटन मंत्री बृजमोहन अग्रवालजी और विधायक पद्मश्री अनुज शर्मा एवं पूर्व विधायक देवजीभाई पटेल ने कार्यक्रम में उपस्तित रह कर गुजराती भोज का लुत्फ़ उठाया.

पर्यटन मंत्री बृजमोहन अग्रवालजी ने कहा की ऐसे ज्यादा से ज्यादा कार्यक्रम होने चाहिए जो की गुजरात और छत्तीसगढ़ की संस्कृति के आदान प्रदान का माध्यम बनेंगे.

मुख्य व्यंजन में गुजरात के विभिन्न क्षेत्र के चहिते व्यंजन परोसे गये. कोबिज के सम्भारे से लेकर फुल्का रोटी और बाजरे का रोटला, प्रत्येक व्यंजन ने क्षेत्र के रसोईयों की पाक-कला को प्रस्तुत किया. सेव टमेटा नु शाक, लसणिया बटाका, रिंगण नो ओलो, वाल, मग नी लचको दाल, भरेली दुंगली नु शाक, गुजराती कढ़ी, राजवाड़ी कढ़ी, भात, वघारेलो रोटलो, कचुम्बर, पापड़, मसाला छाछ, और अचार ने सब का मन मोह लिया.  गुजरात की पारंपरिक मिठाइयों का भी महेमानो ने लुत्फ़ उठाया. चुरमे का लड्डू, लापसी, अंगूरी बासुंदी, राजभोग मठो, लौकी का हलवा और सुखड़ी जैसी मिठाइयों ने गुजरात की मिठाश को प्रस्तुत किया.

गुजरती फ़ूड फेस्टिवल के दौरान बैंकवेट में सजी हुइ बड़ी LED स्क्रिन पर प्रसिद्ध गुजराती व्यंजनों की रेसिपी को लगातार प्रस्तुत किया गया. यह दृश्य सभी उपस्थित लोगों को गुजरात के रसोईय इतिहास के माध्यम से यात्रा कराते हुए, शाम को जीवंत और एकांतमय अनुभव प्रदान कर रहा था. रायपुर के विभिन्न अतिथियों और गुजराती समाज की ओर से गुजराती फ़ूड फेस्टिवल को सराहा गया. आमंत्रित ब्लॉगर्स भी ऐसे अनोखे आयोजन से काफी प्रभावित हुए. रायपुर शहर में बस रहे गुजराती समाज की बाहनों ने गरबा प्रस्तुत करते हुए छत्तीसगढ़ में गुजराती माहौल बना दिया.

संक्षेप में, गुजरात पर्यटन विभाग द्वारा आयोजित किए गए गुजराती फूड फेस्टिवल ने गुजराती व्यंजनों की विरासत के माध्यम से एक रमणीय यात्रा प्रदान की, जिसने हर उपस्थित व्यक्ति का मन मोह लिया.

Related Articles

Back to top button