DESH-विदेश

सेमीकंडक्टर कारखाने के लिए मंजूरी जल्द – अश्विनी वैष्णव

केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव ने गुरुवार को कहा कि गुजरात में सेमीकंडक्टर चिप बनाने का कारखाना लगाने के लिए टाटा समूह का निवेश बहुत बड़ा होगा. उन्होंने कहा कि सरकार इस कारखाने के लिए केंद्रीय मंत्रिमंडल की मंजूरी जल्द लेगी. उसके बाद निर्माण शुरू हो जाएगा.
वैष्णव ने गुजरात वैश्विक शिखर सम्मेलन में कहा कि टाटा का प्रस्तावित निवेश महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह फैब से लेकर आउटसोर्स्ड सेमीकंडक्टर असेंबली एंड टेस्ट (ओएसएटी) तक व्यापक सेवा प्रदान करेगा. उन्होंने कहा कि गुजरात के धोलेरा में प्रस्तावित फैब एक सेमीकंडक्टर चिप निर्माण कारखाना होगा. इसमें कंपनी का बड़ा निवेश होगा. केंद्रीय मंत्री ने यह भी कहा कि टाटा समूह परियोजना स्थापित करने के लिए तकनीकी भागीदार के साथ गठजोड़ करेगा. हालांकि, उन्होंने भागीदार का नाम या निवेश का विवरण साझा करने से इनकार कर दिया.
मालूम हो कि यहां वाइब्रेंट गुजरात वैश्विक शिखर सम्मेलन के दसवें संस्करण में अपने संबोधन में टाटा संस के चेयरमैन एन. चंद्रशेखरन ने घोषणा की थी कि समूह धोलेरा में सेमीकंडक्टर चिप बनाने का बड़ा कारखाना लगाएगा. इस संदर्भ में बातचीत अंतिम चरण में है. परियोजना 2024 में शुरू होगी. वैष्णव ने गुरुवार को कहा कि सेमीकंडटर उद्योग से जुड़ी दक्षिण कोरियाई कंपनी सिमटेक ने 1,250 करोड़ रुपये निवेश करने के लिए हस्ताक्षर किए हैं.
भारत को दुनिया का शीर्ष वाहन निर्माण केंद्र बनाएंगे केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि सरकार का मिशन भारत को दुनिया का नंबर एक वाहन निर्माण केंद्र बनाना है. उन्होंने कहा कि हम वाहन उद्योग को 25 लाख करोड़ रुपये पर पहुंचाना चाहते हैं.
प्रधान बोले, ज्यादातर नौकरियां नई प्रौद्योगिकियों के क्षेत्र में होंगी केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि आने वाले वर्षों में ज्यादातर नौकरियां नई प्रौद्योगिकियों के क्षेत्र में होंगी. उन्होंने यह भी कहा कि भारत की शिक्षा व्यवस्था और कौशल पारिस्थितिकी तंत्र युवाओं को भविष्य के लिए तैयार करने के वास्ते पूरी तरह से उन्मुख है.

Related Articles

Back to top button