लोकसभा चुनावों में कांग्रेस सीट बंटवारे पर लचीला रुख संभव

0
8

नई दिल्ली . लोकसभा चुनावों में सीटों के बंटवारे को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे और राहुल गांधी ने बिहार कांग्रेस के नेताओं से विचार-विमर्श किया. बैठक में बिहार कांग्रेस नेताओं की तरफ से कहा गया कि पार्टी को नौ-दस सीटों पर चुनाव लड़ना चाहिए और सीटें कौन सी होंगी, यह भी पार्टी को खुद तय करना चाहिए.

हालांकि बैठक के बाद बिहार कांग्रेस के प्रमुख अखिलेश प्रसाद सिंह ने संकेत दिया कि पार्टी सीटों को लेकर लचीला रुख अपना सकती है और सहयोगी दलों के साथ सामंजस्य बिठाएगी. उन्होंने कहा, पहले से स्पष्ट है कांग्रेस बिहार में गठबंधन में चुनाव लड़ेगी. एक कार्य योजना बनाई गई है, उसे विस्तृत रूप देकर आगे बढ़ेंगे. 29 दिसंबर को गठबंधन समिति की बैठक में सीटों को लेकर प्रदेश कांग्रेस कमेटी की तरफ से अपनी बात रखी जाएगी. सिंह ने कहा कि खड़गे और राहुल गांधी ने विस्तार से बात सुनी. उन्होंने कुछ बातें बताई, हम इस पर रूपरेखा तैयार करके आगे बढ़ेंगे. एक सवाल पर उन्होंने कहा कि पिछली बार हम राष्ट्रीय जनता दल और वाम दलों के साथ मिलकर चुनाव लड़े थे. इस बार जदयू भी है. एक दो सीट आगे-पीछे होने में कोई तकलीफ नहीं है. हम सामंजस्य बनाकर लड़ेंगे. इससे पहले खड़गे ने एक्स पर कहा, बिहार में महागठबंधन सरकार लोगों की उम्मीदों के अनुरूप मजबूती से काम कर रही है.

बिहार में सीटों को लेकर अंदरखाने चर्चा जारी बिहार में सीटों को लेकर जो फॉर्मूला अभी अंदरखाने चर्चा में है, उसके अनुसार जदयू और राजद 15-15 सीटों तथा शेष 10 सीटों में कांग्रेस और वामदलों को समाहित करने की योजना है. इनमें माले की दावेदारी दो सीटों और भाकपा की एक सीट पर है. इस हिसाब से कांग्रेस को सात से ज्यादा सीटें मिलना मुश्किल लगता है.

रेलवे स्टेशनों पर सेल्फी बूथ पैसे की बर्बादी खड़गे

कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने आरोप लगाया कि रेलवे स्टेशनों पर प्रधानमंत्री की तस्वीरों वाले सेल्फी बूथ स्थापित करना करदाताओं के पैसे की बर्बादी है. उन्होंने इसके लिए सूचना के अधिकार के तहत रेलवे विभाग की ओर से मिले जवाब का हवाला दिया. खड़गे ने एक्स पर सूचना का अधिकार (आरटीआई) कानून के तहत प्राप्त उत्तर की एक प्रति साझा की. इसमें मध्य रेलवे के तहत उन स्टेशनों को सूचीबद्ध किया गया है जहां अस्थायी और स्थायी सेल्फी बूथ स्थापित किए गए हैं.