‘देश की एकता पर सवाल उठाना गलत’

0
7

चेन्नई . रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शनिवार को कहा कि भारत के बुनियादी पहलुओं को चुनौती देने के लिए ठोस अभियान जारी है, लेकिन ये विमर्श ऐतिहासिक रूप से गलत था. यह समझ की कमी उजागर करता है

राजनाथ ने यहां थिरुमुराई थिरुविझा समारोह में कहा कि भारत की सांस्कृतिक और आध्यात्मिक एकता के मूलभूत पहलुओं को चुनौती देने के लिए हाल के दिनों में एक ठोस अभियान चलाया गया है. कुछ शरारती तत्व लगातार इस धारणा का प्रचार करते हैं कि भारत एक राष्ट्र नहीं है, बल्कि अलग-अलग राज्यों का मात्र एक संघ है. उन्होंने कहा, भारत की राष्ट्रीय और सांस्कृतिक पहचान के बारे में यह गुमराह करने वाला विमर्श ऐतिहासिक रूप से गलत था और ये या तो भारतीय संदर्भ में सांस्कृतिक राष्ट्रवाद की समझ की कमी या गहरी नफरत को दर्शाता है. उन्होंने कहा कि भारत की एकता पर सवाल उठाने का विचार गलत है. जो विघटनकारी और अलगाववादी प्रवृत्तियां उभरी हैं, प्रधानमंत्री मोदी उनसे प्रभावी ढंग से निपट रहे हैं. इससे हमारी सांस्कृतिक एकता का राष्ट्रीय ताना-बाना सक्रिय रूप से मजबूत हो रहा है.