मध्य प्रदेश में चेहरे के साथ पीढ़ी भी बदली

0
9

नई दिल्ली. मध्य प्रदेश में मोहन यादव नए मुख्यमंत्री होंगे. भाजपा नेतृत्व का यह फैसला राज्य की राजनीति में पीढ़ीगत बदलाव तो है ही, साथ ही देश की ओबीसी राजनीति के लिए बड़ा दांव है. छत्तीसगढ़ की तरह यहां भी सामाजिक संतुलन साधने की कोशिश की गई है.

राजस्थान में मंगलवार को विधायक दल की बैठक से भावी नेतृत्व व सामाजिक संतुलन का ऐसा ही समीकरण सामने आ सकता है. भाजपा नेतृत्व ने चुनाव नतीजे आने के बाद ही साफ संकेत दिए थे कि तीनों ही राज्यों में नए चेहरों को लाया जाएगा.

इसी के तहत रविवार को छत्तीसगढ़ और सोमवार को मध्य प्रदेश में फैसले लिए गए. पार्टी ने छत्तीसगढ़ में आदिवासी के बाद मध्य प्रदेश में ओबीसी पर दांव लगाया है. यहां पर ओबीसी नेतृत्व को ही बरकरार रखा है. 2003 से भाजपा के सभी मुख्यमंत्री उमा भारती, बाबूलाल गौर, शिवराज सिंह चौहान और अब मोहन यादव इसी वर्ग से आते हैं. मध्य प्रदेश में लगभग 48 फीसद ओबीसी आबादी है. भाजपा ने मोहन यादव को मुख्यमंत्री बनाकर इस वर्ग को खुश करने का प्रयास किया है.

मुख्यमंत्री तक का सफर

नाम डॉ मोहन यादव

उम्र 58 वर्षीय, शिक्षा एमए, पीएचडी

1982 में माधव विज्ञान महाविद्यालय छात्र संघ के सह-सचिव

1984 में छाक्ष संघ अध्यक्ष बने

1984 में एबीवीपी मध्य प्रदेश के प्रदेश सहमंत्री एवं राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य नियुक्त

2004 में भाजपा प्रदेश कार्यसमिति के सदस्य

2004-2010 उज्जैन विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष

2011 से 2013 तक मध्यप्रदेश राज्य पर्यटन विकास निगम के अध्यक्ष

2013 में पहली बार उज्जैन दक्षिण सीट से जीतकर विधानसभा पहुंचे

2018 में दूसरी बार विधायक बने और शिवराज सरकार में उच्च शिक्षा मंत्री बने

2023 में उज्जैन दक्षिण सीट से जीते

राज्य में दो उपमुख्यमंत्री होंगे

राज्य सरकार में दो उपमुख्यमंत्री भी होंगे, इनमें एक विंध्य क्षेत्र (बघेलखंड) के रीवा से चुने गए राजेंद्र शुक्ला और दूसरे मंदसौर जिले के तहत मल्हारगढ़ सीट से चुने गए जगदीश देवड़ा होंगे. जगदीश देवड़ा अनुसूचित जाति समुदाय से आते हैं और मोहन यादव की तरह मालवा क्षेत्र से ही है. राजेंद्र शुक्ला, शिवराज सरकार में मंत्री थे. वह चौथी बार विधायक बने हैं. वह जब भी विधायक बने, हर बार मंत्री भी बने हैं. पार्टी ने वरिष्ठ नेता नरेंद्र सिंह तोमर को विधानसभा अध्यक्ष बनाने का फैसला किया है. तोमर हाल में दिमनी से विधायक चुने गए हैं. वह ग्वालियर-चंबल क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करेंगे.