ओडिशा में जब्त राशि 290 करोड़ रुपये होने के आसार

0
7

ओडिशा स्थित शराब बनाने वाली कंपनी के एक समूह और उससे जुड़े प्रतिष्ठानों के खिलाफ आयकर विभाग की छापेमारी के बाद मिली बेहिसाब नकदी के 290 करोड़ रुपये होने की संभावना है. माना जा रहा है कि यह एजेंसी के किसी एक अभियान में अब तक बरामद हुआ सबसे अधिक कालाधन है. आधिकारिक सूत्रों ने शनिवार को यह जानकारी दी.

सूत्रों ने बताया कि बौध डिस्टिलरी प्राइवेट लिमिटेड और अन्य के खिलाफ छापे के बाद छह दिसंबर को शुरू हुई कार्रवाई के बाद आयकर विभाग ने नोटों की गिनती के लिए लगभग 40 बड़ी एवं छोटी मशीनें तैनात की हैं. गिनती की प्रक्रिया को पूरा करने के लिए विभाग और स्टेट बैंक के 50 से अधिक कर्मचारियों को लाया गया है. इसके अलावा, जब्त की गई नकदी को राज्य के सरकारी बैंकों तक पहुंचाने के लिए विभाग ने और वाहनों की मांग की है.

500 रुपये के अधिकतर नोट सूत्रों ने बताया कि कर अधिकारी अब कंपनी के विभिन्न अधिकारियों और इससे जुड़े अन्य व्यक्तियों के बयान दर्ज कर रहे हैं. उन्होंने बताया कि कुल जब्त की गई बेहिसाब नकद राशि करीब 290 करोड़ रुपये होने की संभावना है. अब तक 250 करोड़ रुपये से अधिक नकदी जब्त की जा चुकी है और ओडिशा में सरकारी बैंक शाखाओं में नकदी लगातार जमा की जा रही है. उन्होंने बताया कि अधिकतर नोट 500 रुपये के हैं.

बोलांगीर जिले में कंपनी के परिसरों में रखी लगभग 10 अलमारियों से 230 करोड़ रुपये नकद जब्त किए गए हैं, जबकि बाकी रकम टिटलागढ़, संबलपुर और रांची के परिसरों से जब्त की गई. सूत्रों ने बताया कि नकदी रखने के लिए करीब 200 छोटे-बड़े बैग का इस्तेमाल किया गया. ओडिशा में सत्तारूढ़ बीजू जनता दल ने एक बयान जारी कर इन छापों का स्वागत किया.

हैदराबाद से आयकर की 20 सदस्यीय टीम बोलांगीर पहुंची आयकर की टीम को सहयोग करने के लिए हैदराबाद से भी आयकर की 20 सदस्यीय टीम शनिवार को बोलांगीर पहुंची है. इस टीम में आयकर विभाग के विश्लेषक भी हैं. यह टीम कंपनियों में इस्तेमाल हो रहे कंप्यूटर और विभिन्न उपकरणों की जांच कर सकती है.