पन्नू मामले में अमेरिका ने सराहा

0
11

अमेरिका ने अपनी धरती पर सिख अलगाववादी की हत्या की साजिश रचने में एक भारतीय अधिकारी के शामिल होने के आरोपों पर भारत की ओर से जांच कराए जाने की घोषणा को अच्छा और उचित करार दिया. उसने कहा कि वह जांच के निष्कर्षों को लेकर आशान्वित हैं.

अमेरिका में संघीय अभियोजकों ने बुधवार को आरोप लगाया था कि निखिल गुप्ता नाम के व्यक्ति ने एक भारतीय सरकारी अधिकारी के साथ मिलकर सिख अलगाववादी गुरपतवंत सिंह पन्नू की हत्या की साजिश रची थी, जो सफल नहीं हो पाई. पन्नू के पास अमेरिका और कनाडा की नागरिकता है.

भारत ने अमेरिकी धरती पर सिख अलगाववादी की हत्या की साजिश रचने के आरोपी व्यक्ति के साथ एक भारतीय अधिकारी को अमेरिका द्वारा जोड़े जाने को गुरुवार को चिंता का विषय बताया. विदेश मंत्रालय ने कहा कि आरोपों की जांच के लिए गठित समिति के निष्कर्षों के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी.

भारत-अमेरिका के संबंधों पर कोई असर नहीं पड़ेगा इस मामले में व्हाइट हाउस ने भी भारत की ओर से जांच कराए जाने की घोषणा का स्वागत किया है. इसने साथ ही कहा कि इससे भारत और अमेरिका के संबंधों पर कोई असर नहीं पड़ेगा. व्हाइट हाउस में राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद में रणनीतिक संचार मामलों के समन्वयक जॉन किर्बी ने कहा, हम इन आरोपों को बेहद गंभीरता से लेते हैं. हम इस बात से प्रसन्न हैं कि भारत ने भी इसकी जांच कराने की घोषणा की है. हम चाहते हैं कि जिम्मेदार व्यक्ति को जवाबदेह ठहराया जाए.

किर्बी ने एक सवाल के जवाब में कहा, मैं जारी जांच के बारे में कुछ नहीं कहूंगा. मैं बस दो बातें कहूंगा. भारत रणनीतिक साझेदार है और हम भारत के साथ साझेदारी को बेहतर तथा मजबूत करने के लिए काम करना जारी रखेंगे.

परिणाम को लेकर आशान्वित ब्लिंकन

अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने अपने साथ तेल अवीव में मौजूद पत्रकारों से कहा, भारत सरकार ने आज घोषणा की है कि वह जांच करा रही है, तो यह अच्छा है और उचित है. हम जांच के परिणाम को लेकर आशान्वित हैं. उन्होंने कहा, यह कानूनी मामला है. ऐसे में आप समझ सकते हैं कि मैं इस पर विस्तार से बातचीत नहीं कर सकता. मैं कह सकता हूं कि इसे हम बेहद गंभीरता से ले रहे हैं.