BREAKINGMP-छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ पॉवर कंपनियों में हड़ताल का आंशिक असर, अनुपस्थित रहने वालों को नोटिस

RAIPUR. छत्तीसगढ़ पॉवर कंपनी अधिकारी-कर्मचारी ओपीएस बहाली संयुक्त मोर्चा के 18 अगस्त को सामूहिक अवकाश के हड़ताल का जनरेशन कंपनी के संयंत्रों में कोई असर नहीं रहा। वहां केवल 3%(81/2852) अधिकारी कर्मचारी हड़ताल पर रहे, जबकि ट्रांसमिशन एवं डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी में आंशिक असर रहा। इस दौरान अनुपस्थित रहने वालों को नोटिस जारी किया गया है।

रायुपर में केजरीवाल बोले- हम स्कूल, अस्पताल, बिजली पानी की राजनीति करते हैं, अब बदलाव जरूरी

जानकारी के अनुसार ट्रांसमिशन में 26% (417/1587) और डिस्ट्रीब्यूशन में 35 % (3250/9122) अधिकारी कर्मचारी हड़ताल पर रहे। श्रम न्यायलय ने विभिन्न कर्मचारी संघों की हड़ताल को अवैध घोषित किया, जिसकी सूचना सभी हड़ताली संघों को होने के बावजूद भी सामूहिक अवकाश लेने वाले कर्मचारी-अधिकारी हड़ताल पर गए।

इससे पावर कंपनी के कामकाज पर आंशिक असर पड़ा और आम उपभोक्ता बेवजह परेशान हुए इसे प्रबंधन ने गंभीरता से लिया है, और इसलिए सभी हड़ताली विद्युत कर्मियों को नोटिस दी जा रही है एवं उन पर अनुशासनात्मक कार्रवाई की जा सकती है।

ब्रेक इन सर्विस की कार्रवाई की जा सकती है

दरअसल, श्रम न्यायालय के आदेश से सभी श्रमिक संघों/संगठनों को समय पर अवगत करा दिया गया था। इसके बावजूद, श्रमिक संघों ने 18 अगस्त को हड़ताल की। हड़ताल में कुल तीनों पावर कंपनियों में 13,561 विद्युत कर्मी कार्यरत हैं, जिनमें से कुल 3,748 कर्मचारी/अधिकारी यानी लगभग 28 प्रतिशत अनुपस्थित रहे। हड़ताल के दिन के वेतन की कटौती एवं हड़ताल अवधि को ब्रेक-इन-सर्विस किए जाने के संबंध में कार्यवाही की जा सकती है।

Related Articles

Back to top button