छत्तीसगढ़ में ईडी ने डीएमएफ गड़बड़ी में दर्ज किया केस

आईपीएस रानू साहू से पूछताछ के लिए मांगी अनुमति, क्योंकि कोरबा में ज्यादा गड़बड़ी

RAIPUR. ED registers case in connection with DMF scam in Chhattisgarh. छत्तीसगढ़ में जिला खनिज निधि (DMF) में गड़बड़ी मिली है, जिसके बाद प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने ईसीआईआरआर (Enforcement Case Information Report) दर्ज कर लिया है। इसके साथ ही ईडी ने खनिज विभाग से 33 जिलों के डीएमएफ की जानकारी मांगी है कि 2019 से अब तक किस मद में कितना खर्च हुआ है। इस मामले में जेल में बंद आईएएस रानू साहू से पूछताछ के लिए ईडी ने ईडी स्पेशल कोर्ट से अनुमति मांगी है।

Breaking: रायगढ़, अंबिकापुर समेत कई स्थानों पर ईडी की छापेमारी

बताया जा रहा है कि डीएमएफ केस में रानू से पहली बार पूछताछ होगी, क्योंकि रानू साहू के कोरबा कलेक्टर रहते ही डीएमएफ गड़बड़ी की सबसे ज्यादा शिकायतें मिली थीं। इसके बाद ही आयकर विभाग के छापे में भी इसके इनपुट मिले हैं। इसके आधार पर अब इसमें एक दर्जन आईएएस और राप्रसे के अधिकारियों से पूछताछ की तैयारी है। कोरबा, रायगढ़, दंतेवाड़ा जैसे जिलों के वर्तमान व पूर्व कलेक्टर से पूछताछ की तैयारी है।

जेल में बंद आरोपियों की अब 23 सितंबर को होगी सुनवाई

दूसरी ओर, जेल में बंद आईएएस समीर विश्नोई, राप्रसे की अधिकारी सौम्या चौरसिया, खनिज अधिकारी शिवशंकर नाग, संदीप नायक, कारोबारी सूर्यकांत तिवारी, सुनील अग्रवाल, लक्ष्मीकांत तिवारी,, दीपेश टांक और राजेश चौधरी को कोर्ट में पेश किया। कोर्ट ने अगली सुनवाई 23 सितंबर तक बढ़ा दी है। कोर्ट ने ईडी को निर्देश दिया है कि जिन तीन कंपनियों को आरोपी बनाया गया है। उन्हें तलब किया जाए। तीन फरार आरोपियों को भी नोटिस जारी किया गया है।

Back to top button