पाकिस्तान में रैली में विस्फोट से 40 लोगों की मौत, 130 से ज्यादा घाायल

जेयूआई-एफ पार्टी की सभा में विस्फोट, कारण का पता नहीं चला

PESHWAR. rally-blast-in-pakistan-kills-40-injures-over-130. पाकिस्तान एक​ फिर धमाके से दहल गया है। पड़ोसी मुल्क के उत्तर-पश्चिमी खैबर पख्तूनख्वा प्रांत में रविवार को राजनीतिक रैली के दौरान विस्फोट में 40 लोग मारे गए और 130 से अधिक घायल हो गए। पुलिस ने बताया कि बाजौर के पूर्व आदिवासी इलाके में रूढ़िवादी जमीयत उलेमा इस्लाम-फजल (जेयूआई-एफ) पार्टी की सभा में यह विस्फोट हुआ। विस्फोट के कारण का पता नहीं चला है।

इस घटना के बाद जिला पुलिस अधिकारी नजीर खान ने कहा कि हादसे के बाद बाजौर और आसपास के इलाकों के अस्पतालों में आपातकाल घोषित कर दिया गया है, जहां ज्यादातर घायलों को पहुंचाया गया है। पिछले साल तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) और इस्लामाबाद के बीच संघर्ष विराम टूटने के बाद से पाकिस्तान में इस्लामी आतंकियों द्वारा हमलों में फिर से वृद्धि देखी गई है। हालांकि, हाल के ज्यादातर हमले राजनीतिक समारोहों के बजाय सुरक्षा बलों और प्रतिष्ठानों पर हुए हैं।

जम्मू-कश्मीर में सेना की गाड़ी में लगी आग, चार जवान शहीद

टीटीपी पश्चिमी पड़ोसी अफगानिस्तान में तालिबान के प्रति निष्ठा रखता है, लेकिन सीधे तौर पर उसका हिस्सा नहीं है। पाकिस्तान के सुरक्षा बलों का कहना है कि टीटीपी के पास अफगानिस्तान में पनाहगाह हैं, लेकिन वहां तालिबान द्वारा संचालित प्रशासन इससे इनकार करता है।

इस हमले के पीछे कौन?

JUI-F कट्टर इस्लामी संगठन है और इसके तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान और अफगान तालिबान से करीबी रिश्ते हैं। लिहाजा इस बात की आशंका कम है कि इस इलाके में हमला तालिबान ने किया होगा। अब सवाल ये है कि अगर तालिबान ने हमला नहीं किया तो फिर इसके पीछे कौन है। पाकिस्तान सरकार और तालिबान के बीच बातचीत कराने में भी जमीयत चीफ मौलाना फजल-उर-रहमान का अहम रोल था। हालांकि बाद में यह बातचीत नाकाम हो गई थी।

Back to top button