छत्तीसगढ़ में एक अगस्त से जूनियर डॉक्टर करेंगे ओपीडी का बहिष्कार

2 अगस्त से बेमुद्दत हड़ताल पर जाएंगे जूडो, नर्स जाएंगी 21 अगस्त से बेमुद्दत हड़ताल पर

RAIPUR. Junior doctors in Chhattisgarh to boycott OPD from August 1. छत्तीसगढ़ में एक बार फिर जूनियर डॉक्टर (जूडो) हड़ताल में जाने की तैयारी में हैं। जानकारी के अनुसार स्टायपेंड नहीं बढ़ाए जाने से नाराज प्रदेश के सभी सरकारी मेडिकल कॉलेज अस्पतालों के जूनियर डॉक्टर 1 अगस्त को ओपीडी का बहिष्कार करेंगे। वहीं 2 अगस्त से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाएंगे। इसमें बांडेड सीनियर रेसीडेंट व इंटर्न छात्र भी शामिल होंगे। जूडो समेत हड़ताल करने वाले छात्रों की संख्या 2000 से ज्यादा है। वे बीते गुरुवार से काली पट्‌टी बांधकर काम कर रहे हैं।

अब सीधे युवाओं से संवाद करेंगे सीएम भूपेश, जानेंगे अनुभव व मुद्दे

दूसरी ओर प्रदेश की सभी नर्सें 11 अगस्त को सामूहिक अवकाश लेंगी। 21 अगस्त से वे बेमुद्दत हड़ताल पर जाएंगी। जूडो व नर्सों की हड़ताल से अस्पतालों का कामकाज ठप होने की आशंका है। दरअसल, पीजी छात्र यानी जूडो, पीजी पास छात्र यानी बांडेड सीनियर रेसीडेंट व इंटर्न छात्र सालभर से स्टायपेंड बढ़ाने की मांग कर रहे हैं। वे इस मामले में मुख्यमंत्री समेत स्वास्थ्य मंत्री से भी मिल चुके हैं। हाल ही में वे सीएम से मिलकर स्टायपेंड बढ़ाने की मांग की थी। मेडिकल कॉलेजों की ओर से भी शासन को स्टायपेंड बढ़ाने का प्रस्ताव गया है।

अभी इतना मिल रहा स्टायपेंड

वर्तमान में जूडो को 53550 रुपए से लेकर 59220 रुपए स्टायपेंड मिल रहा है। वे इसे बढ़ाकर 95488 से 1.01 लाख रुपए प्रति महीने करने की मांग कर रहे हैं। यह स्टायपेंड वर्तमान में संविदा असिस्टेंट प्रोफेसरों को मिल रहे वेतन से ज्यादा है। इंटर्न छात्रों को 12500 रुपए व बांडे एसआर को 55 हजार रुपए स्टायपेंड दिया जा रहा है। जूडो का दावा है कि दूसरे राज्यों की तुलना में प्रदेश में स्टायपेंड कम दिया जा रहा है। जबकि महंगाई लगातार बढ़ती जा रही है।

Back to top button