छत्तीगसढ़ में बढ़ेंगी 200 एमबीबीएस सीटें

चार मेडिकल कॉलेजों के स्टूडेंट्स को काउंसिलिंग में फायदा, केंद्र को भेजा प्रस्ताव

रायपुर। 200 MBBS seats will increase in Chhattisgarh. छत्तीसगढ़ के मेडिकल स्टूडेंट्स के लिए राहत की खबर है। रायपुर समेत प्रदेश के 4 मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस की 200 सीटें एक साथ बढ़ सकती हैं। नीट की काउंसिलिंग में शामिल होने वाले राज्यभर के छात्रों को सीधे फायदा होगा। रायपुर मेडिकल कॉलेज, बिलासपुर मेडिकल कॉलेज, रायगढ़ मेडिकल कॉलेज, अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज प्रबंधन ने सीटें बढ़ाने के लिए केंद्र सरकार को प्रस्ताव भेज दिया है।

छत्तीसगढ़ में दो और मेडिकल कॉलेज, कांकेर और महसमुंद में 100 सीटों की मान्यता

हाल में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बिलासपुर, रायगढ़ व अंबिकापुर के डीन को दिल्ली बुलाया था। तीनों डीन ने अपने-अपने कॉलेजों का प्रेजेंटेशन दिया। जानकारी के अनुसार प्रेजेंटेशन में बताया गया कि चारों कॉलेजों में सीटें बढ़ाने के लिए किस तरह उपयुक्त है। सभी डीन की माने तो केंद्रीय अफसर उनके प्रस्ताव से संतुष्ट हैं। इसलिए सबकुछ ठीक रहा है तो इसी काउंसिलिंग में 200 सीटें एक साथ बढ़ जाएंगी।

दो साल में 475 सीटों को मंजूरी

पिछले दो साल में प्रदेश में 4 मेडिकल कॉलेजों को मान्यता मिली है। इनमें तीन सरकारी व एक निजी कॉलेज है। पिछले साल कांकेर में 125 और बालाजी रायपुर में 150 सीटों को मान्यता मिली थी। इस साल महासमुंद व कोरबा मेडिकल कॉलेजों को 100-100 सीटों के लिए मान्यता मिली है। इन दोनों कॉलेजों को ईडब्ल्यूएस की 25-25 सीटें और मिलेंगी। इन्हें मिलाकर दो साल में 525 सीटें बढ़ जाएंगी। इससे नीट यूजी क्वालिफाइड करने वालों को फायदा हुआ है। इससे मेडिकल कॉलेज में प्रवेश के लिए कट ऑफ भी कम हुआ है।

कवर्धा में नए कॉलेज का भेजेंगे प्रस्ताव

हाल ही में हेल्थ कमिश्नर व डीएमई ने कवर्धा में प्रस्तावित नए मेडिकल कॉलेज के लिए जमीन व बिल्डिंग का निरीक्षण किया है। यहां 2023-24 में नया कॉलेज खोलने के लिए एनएमसी को प्रस्ताव बनाकर भेजा जाएगा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बेमेतरा और जांजगीर-चांपा में भी नए कॉलेज खोलने की घोषणा की है।

मान्यता मिलने की पूरी संभावना

चिकित्सा शिक्षा के संचालक डॉ. विष्णु दत्त के अनुसार 4 मेडिकल कॉलेजों में 50-50 सीटें बढ़ाने का प्रस्ताव केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को भेजा गया था। तीन कॉलेजों के डीन प्रेजेंटेशन दे चुके हैं। इस सत्र में बढ़ी हुई सीटों को मान्यता मिलने की पूरी संभावना है।

Back to top button